नयी दिल्ली

भारतीय नौसेना से रिटायर हो चुके विमानवाहक पोत आईएनएस विराट को तोड़ने की प्रक्रिया जारी थी, लेकिन देश में बहुत से लोग ऐसे हैं, जो इसके खिलाफ थे। साथ ही उन्होंने सोशल मीडिया पर विराट को बचाने के लिए अभियान भी चलाया। लोगों की मांग है कि आईएनएस विराट को संग्राहलय में तब्दील कर दिया जाए, ताकी आने वाली पीढ़ी भारतीय नौसेना के गौरवशाली इतिहास को देख सके। बाद में ये मामला सुप्रीम कोर्ट पहुंचा और बुधवार को इसमें बड़ा फैसला आया। सुप्रीम कोर्ट ने अगले आदेश तक INS विराट को तोड़ने की प्रक्रिया पर रोक लगा दी है।

दरअसल INS विक्रमादित्य के आने के बाद विराट को चार साल पहले भारतीय नौसेना से रिटायर किया गया था। इसके बाद पिछले साल जुलाई में 38.54 करोड़ रुपये में श्री राम ग्रुप ने इसे खरीदा और गुजरात के भावनगर ले गए, जहां पर दिसंबर से इसको तोड़ने की प्रक्रिया जारी है। मौजूदा वक्त में 300 प्रशिक्षित श्रमिक इसको तोड़ने का काम कर रहे हैं। जिस वजह से इसका 30 प्रतिशत हिस्सा टूट भी गया है। INS विराट मजबूत स्टील से बना है और काफी हिस्सा पूरी तरह से बुलेटप्रुफ है। श्रीराम कंपनी इसे तोड़कर इसका स्टील निकालकर बेचेगी।

17290cookie-checkसुप्रीम कोर्ट ने INS विराट तोड़ने की प्रक्रिया पर लगाई रोक, INS विराट के लिए लोगों की मुहिम लाई रंग|

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!
For Query Call Now