गीता प्रेमियो! किसी का भी उदय, अचानक नहीं होता, सूरज भी धीरे-धीरे निकलता है और ऊपर उठता है। जिसमें धैर्य और तपस्या होती है, वही संसार को प्रकाशित करता है।

आइए ! गीता प्रसंग में चलते हैं— 

पिछले अंक में हमने पढ़ा– यदि कोई साधक किसी कारणवश अपनी साधना में सफल नहीं हो पाता, तो भगवान उसकी अधूरी साधना पूरी करने के लिए फिर से शुद्ध श्रीमंतों के घर में जन्म देते हैं। अब आगे के श्लोक में भगवान खुद को इस सम्पूर्ण जगत का मूल कारण बताते हुए कहते हैं—-

इसे भी पढ़ें: Gyan Ganga: अर्जुन ने चंचल मन को स्थिर करने का उपाय पूछा तो भगवान ने क्या कहा ?

श्री भगवान उवाच  

मत्तः परतरं नान्यत्किञ्चिदस्ति धनञ्जय।

मयि सर्वमिदं प्रोक्तं सूत्रे मणिगणा इव॥ 

 

हे धनंजय! मेरे सिवाय इस जगत का कोई दूसरा कारण नहीं हो सकता। मैं ही इस सम्पूर्ण संसार का महकारण हूँ। जैसे मोती सूत के धागे की माला में पिरोए हुए होते हैं, वैसे ही यह सम्पूर्ण जगत मुझमें ही ओत-प्रोत है। यह संसार मुझसे ही उत्पन्न होता है, मुझमें ही स्थित रहता है और मुझमें ही लीन हो जाता है। कहने का तात्पर्य यह है कि– भगवान के सिवाय संसार की स्वतंत्र सत्ता नहीं है।

 

रसोऽहमप्सु कौन्तेय प्रभास्मि शशिसूर्ययोः।

प्रणवः सर्ववेदेषु शब्दः खे पौरुषं नृषु॥ 

 

अब, भगवान प्रकृति के कण-कण में अपनी सत्ता बताते हुए कहते हैं—

 

हे कुन्तीपुत्र! मैं ही जल का स्वाद हूँ, सूर्य तथा चन्द्रमा का प्रकाश हूँ, समस्त वैदिक मन्त्रो में ओंकार हूँ, (इसीलिए प्रत्येक मंत्र का आरंभ ॐ से किया जाता है) आकाश में ध्वनि हूँ और मनुष्यों द्वारा किया जाने वाला पुरुषार्थ भी मैं ही हूँ।

 

पुण्यो गन्धः पृथिव्यां च तेजश्चास्मि विभावसौ।

जीवनं सर्वभूतेषु तपश्चास्मि तपस्विषु॥ 

 

मैं पृथ्वी में पवित्र गंध हूँ, (पृथ्वी गंध तन्मात्रा से उत्पन्न होती है) अग्नि में उष्मा हूँ, समस्त प्राणियों में वायु रूप में प्राण हूँ और तपस्वियों में तपस्या भी मैं ही हूँ।

 

बीजं मां सर्वभूतानां विद्धि पार्थ सनातनम्‌।

बुद्धिर्बुद्धिमतामस्मि तेजस्तेजस्विनामहम्‌॥ 

 

भगवान श्रीकृष्ण कहते हैं– हे पृथापुत्र पार्थ! तुम मुझको ही सभी प्राणियों का सनातन कारण और अनादि-अनन्त बीज समझो। मैं ही बुद्धिमानों की बुद्धि और तेजस्वी मनुष्यों का तेज हूँ। देवकीनन्दन वासुदेव ही सम्पूर्ण विश्व के कारण हैं।

संसार के रहते हुए भी वे सब में हैं, संसार के मिटने पर भी वे नहीं मिटते बल्कि सदा विद्यमान रहते हैं। इससे सिद्ध होता है कि सब कुछ भगवान ही हैं बाकी सब प्रपंच है। इसको समझने के लिए शास्त्र और उपनिषदों में सोना, मिट्टी और लोहे का बहुत ही सुंदर उदाहरण दिया गया है। जैसे- सोने से बने हुए सब गहने, आभूषण सोना ही है, मिट्टी से बने हुए सब बर्तन मिट्टी ही हैं और लोहे से बने हुए सब अस्त्र-शस्त्र लोहा ही हैं, ठीक वैसे ही भगवान से उत्पन्न (बना) हुआ सब संसार भगवान ही हैं।

 

अब आगे के श्लोक में भगवान अपने को न जान सकने में कारण बताते हुए कहते हैं–

 

दैवी ह्येषा गुणमयी मम माया दुरत्यया।

मामेव ये प्रपद्यन्ते मायामेतां तरन्ति ते॥

 

सत, रज, और तम इन तीनों गुणों से युक्त मेरी माया को पार कर पाना असंभव है। मनुष्य मेरी इस माया में चिपके रहते हैं और भोग, संग्रह की इच्छा छोड़ नहीं पाते। मनुष्य अपने को कभी सुखी और कभी दुखी, कभी समझदार और कभी बेसमझ, कभी निर्बल और कभी बलवान आदि मानकर मेरी इस माया में तल्लीन रहते हैं। (विष्णुर्माया भगवती यया सम्मोहितं जगत) परन्तु जो मनुष्य मेरे शरणागत हो जाते हैं, वे मेरी इस माया को आसानी से पार कर जाते हैं, क्योंकि उनकी दृष्टि केवल मेरी तरफ रहती है वे मेरी माया में नहीं फँसते।

 

चतुर्विधा भजन्ते मां जनाः सुकृतिनोऽर्जुन।

आर्तो जिज्ञासुरर्थार्थी ज्ञानी च भरतर्षभ॥ 

 

हे भरतश्रेष्ठ अर्जुन! पवित्र कर्म करने वाले मेरे चार प्रकार के भक्त मेरा स्मरण करते हैं। (१) आर्त- दुख से निवृत्ति चाहने वाले, (२) अर्थार्थी- धन-सम्पदा चाहने वाले (३) जिज्ञासु- केवल मुझे जानने की इच्छा वाले और (४) ज्ञानी- मुझे ज्ञान सहित जानने वाले। आइए, इसको थोड़ा समझ लें।

 

आर्त भक्त:- प्राण-संकट आने पर संकट दूर करने के लिए केवल भगवान को पुकारते हैं, कष्ट का निवारण केवल भगवान से ही चाहते हैं, दूसरे किसी से नहीं, वे आर्त भक्त कहलाते हैं। आर्त भक्तों में द्रौपदी और गजेन्द्र का दृष्टांत ठीक नहीं लगता है क्योंकि इन दोनों ने अपनी रक्षा के लिए अन्य उपायों का भी सहारा लिया था। चीर-हरण के समय जब तक द्रौपदी भीष्म पितामह और पांचों पांडवों (पंच पतियों) पर भरोसा करती रही, तब तक वह रोती-बिलखती और कष्ट पाती रही। परंतु जब सब सहारा छोड़कर अनन्य भाव से प्रभु को पुकारा तब प्रभु ने उसकी लाज बचाई। ऐसे ही गजेंद्र ने जब तक दूसरे हाथियों और हथिनियों का सहारा लिया, अपने बल का सहारा लिया, तब तक वह कई वर्षों तक ग्राह (crocodile) से लड़ता रहा और दुख पाता रहा। सब सहारा छूटने के बाद जब ‘ॐ नमो भगवते’ कहकर हरि को पुकारा तब भगवान ने तुरंत आकर ग्राह का मुँह फाड़ दिया और गजेंद्र का उद्धार किया। भागवत महापुराण में शुकदेव जी कहते हैं-

“ग्राहात् विपाटित् मुखादरिणागजेन्द्रं संपश्यतां हरिरमूमुचदुस्त्रियाणाम्” 

 

आर्त भक्तों में अभिमन्यु की पत्नी उत्तरा का दृष्टांत सही लगता है। कारण कि जब उस पर आफत आई, तब उसने भगवान श्रीकृष्ण के सिवाय किसी दूसरे उपाय का सहारा नहीं लिया उसने सीधे भगवान से निवेदन किया—-

 

पाहि पहि महायोगिन्देवदेव जगत्पते

नान्यं त्वदभयं पश्ये यत्र मृत्यु: परस्परम्।।

 

हे जगतपति! यह दहकता हुआ अश्वत्थामा का बाण मेरे गर्भ को नष्ट करने के लिए दौड़ा आ रहा है, मेरी रक्षा करें। तुरंत उत्तरा के गर्भ में प्रविष्ट होकर भगवान ने गर्भ की रक्षा की और परीक्षित को बचाया।

 

अर्थार्थी:- जिनको अपनी सुख-सुविधा के लिए धन-संपत्ति प्राप्त करने की इच्छा हो जाती है, परन्तु उसको वे केवल भगवान से ही चाहते हैं दूसरों से नहीं, ऐसे भक्त अर्थार्थी भक्त कहलाते हैं।

 

जिज्ञासु:- जिज्ञासु भक्त वह है जिसमें भगवान को जानने और भगवत-भक्ति की जोरदार इच्छा हो जाती है। जिज्ञासु भक्तों में उद्धवजी का नाम लिया जाता है। भगवान ने उद्धवजी को दिव्य ज्ञान का उपदेश दिया था, जो उद्धव गीता के नाम से प्रसिद्ध है।

 

ज्ञानी:- श्रीमद भगवतगीता में उच्च कोटि के भगवत प्रेमी को ज्ञानी माना गया है। उनके मन में किसी भी प्रकार की कोई इच्छा नहीं होती, वे केवल भगवान के प्रेम में ही मस्त रहते हैं। प्रेमी भक्तों में गोपियों का नाम प्रसिद्ध है। गोपियों ने अपने सुख का त्याग कर, प्रियतम भगवान के सुख को ही अपना सुख माना था। ज्ञानी अर्थात प्रेमी भक्त भगवान से कुछ नहीं चाहता, इसलिए वह भगवान का सर्वश्रेष्ठ भक्त है।

 

श्री वर्चस्व आयुस्व आरोग्य कल्याणमस्तु…

जय श्री कृष्ण…

42390cookie-checkगीता में भगवान ने अर्जुन को बताया था- संपूर्ण जगत मुझमें ही ओतप्रोत है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

For Query Call Now