आईसीसी विश्व कप 2023 की चैंपियन टीम ऑस्ट्रेलिया बन गई है, जिसने छठी बार भारत को सात विकेट से हराकर खिताब पर कब्जा किया है। बेहतरीन फील्डिंग, गेंदबाजी और बल्लेबाजी के दम पर ऑस्ट्रेलिया की टीम ने शानदार खेल दिखाया और ट्रॉफी जीती। भारत के खिलाड़ियों के खराब प्रदर्शन की बदौलत ऑस्ट्रेलिया को जीत के लिए अधिक परेशानी नहीं उठानी पड़ी।

फाइनल मैच से पहले तक पूरी भारतीय टीम बेहतरीन फॉर्म में थी। इस टूर्नामेंट में शानदार प्रदर्शन करने के लिए भारतीय टीम के स्टार बल्लेबाज विराट कोहली को सर्वाधिक रन बनाने के लिए खिताब मिला है। इसी के साथ भारत में आयोजित विश्व कप में सर्वाधिक रन बनाने वाले वो पहले खिलाड़ी बने है। विश्व कप इतिहास टूर्नामेंट में सबसे अधिक रन बनाने वाले बल्लेबाज भी विराट कोहली है। वहीं टूर्नामेंट में अपनी गेंद से शानदार खेल दिखाया मोहम्मद शमी ने, जिन्होंने शुरुआती चार मैचों में बाहर रहने के बाद भी सबसे सफल गेंदबाज का टैग हासिल किया।

ऐसा रहा विराट का औसत

विश्व कप टूर्नामेंट में विराट कोहली ने कुल 11 मैचों में 95.62 की औसत से 765 रन बनाए। विराट कोहली द्वारा बनाए गए ये सभी रन एक विश्व रिकॉर्ड हैं। इस दौरान उन्होंने तीन शतक और छह अर्धशतक जड़े। वह हालांकि भारत को एक बार फिर चैंपियन बनवाने में नाकाम रहे। कोहली ने अपने आदर्श और महान बल्लेबाज सचिन तेंदुलकर का रिकॉर्ड तोड़ा जो 2003 विश्व कप में 673 रन बनाकर शीर्ष स्कोरर रहे थे। भारत को हालांकि 2003 विश्व कप फाइनल में भी ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ ही हार का सामना करना पड़ रहा था। भारतीय कप्तान रोहित शर्मा 11 मैच में एक शतक और तीन अर्धशतक से 54.27 की औसत से 597 रन बनाकर सर्वाधिक रन बनाने वाले बल्लेबाजों की सूची में दूसरे स्थान पर रहे। शीर्ष पांच बल्लेबाजों में कोहली और रोहित के बाद दक्षिण अफ्रीका के क्विंटन डिकॉक (594 रन) और न्यूजीलैंड के रचिन रविंद्र (578 रन) तथा डेरिल मिशेल (552 रन) शामिल रहे। खिताब जीतने वाले ऑस्ट्रेलिया की ओर से सबसे सफल बल्लेबाज डेविड वार्नर रहे जो इस सूची में 535 अंक के साथ छठे स्थान पर रहे। भारत के शुरुआती चार मैचों से बाहर रहने के बावजूद शमी सात मैच में 10.70 के शानदार औसत से 24 विकेट चटकाकर टूर्नामेंट के सबसे सफल गेंदबाज रहे। उन्होंने टूर्नामेंट में तीन बार पारी में पांच या इससे अधिक विकेट चटकाए। सेमीफाइनल में न्यूजीलैंड के खिलाफ 57 रन पर सात विकेट चटकाना उनका सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन रहा जो भारत की ओर से एकदिवसीय अंतरराष्ट्रीय प्रारूप में किसी गेंदबाज का सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन भी है। ऑस्ट्रेलिया के एडम जंपा 11 मैच में 23 विकेट के साथ दूसरे सबसे सफल गेंदबाज रहे। श्रीलंका के दिलशान मदुशंका (21 विकेट), भारत के जसप्रीत बुमराह (20 विकेट) और दक्षिण अफ्रीका के गेराल्ड कोएट्जी (20 विकेट) भी शीर्ष पांच गेंदबाजों में शामिल रहे।

841940cookie-checkहार के बावजूद भारतीय खिलाड़ियों का रहा दबदबा, बल्लेबाजी में Virat तो गेंदबाजी में Shami रहे अव्वल

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!
For Query Call Now