गोरखपुर(CNF)

संवाददाता शाहिद खान

गोरखपुर जोन मे रात्रि गश्त को प्रभावी बनाने के लिए एडीजी जोन के द्वारा तैयार किया खाका।

बनाए गए एप से रात्रि गश्त की निगरानी करने की तैयारी।

गोरखपुर जोन के थानेदारों को निश्चित समय का दिया जाएगा विश्राम, वॉयरलेस पर लोकेशन बताकर गश्त स्थल से नदारद नहीं रह पाएंगे पुलिसकर्मी ।

 

गोरखपुर। एडीजी जोन अखिल कुमार ने कानून व्यवस्था को बेहतर बनाने और पुलिसकर्मियों की मनमानी पर लगाम लगाने के लिए जिले में एक और पहल शुरू कर दिया जिसमें पुलिसकर्मी वायरलेस पर कंट्रोल रूम को लोकेशन बताकर गश्त स्थल से नदारद नहीं हो सकेंगे। इसके लिए उन्होंने एक खाका तैयार कर लिया है जिसके क्रम में पिछले दिनों गोरखपुर में व्हाटसएप पर लाइव लोकेशन भेजने का फरमान जारी कर दिया था। उन्होंने इसमें एक और नई तरकीब जोडऩे की तैयारी कर रहे हैं। अब बहुत जल्द ही पुलिसकर्मियों के मोबाइल फोन पर एक एप डाउनलोड कराया जाएगा जिसमें गश्त पर निकलने पर एक बार एप को ऑन करने पर पुलिसकर्मी किस रु ॅट पर गया कितनी दूरी तय किया और कहां-कहां गया यह सब आता रहेगा। पुलिसकर्मी को एप से यह जानकारी निकालकर आला अधिकारियों को भेजना होगा।
एडीजी अखिल कुमार ने बताया कि पहले की अपेक्षा तकनीकी काफी बढ़ी है। हमें भी अपने काम को तकनीकी का सहारा लेकर आसान के साथ-साथ चुस्त-दुरुस्त बनाना होगा। रात्रि गश्त का प्लॉन बहुत पहले से चल रहा है। कई नियम कानून भी अलग-अलग समय पर अधिकारियों की ओर से बनाए गए हैं लेकिन फिर भी देखने को मिलता है कि रात्रि गश्त में कुछ पुलिसकर्मी नदारद रहते हैं। यही नहीं वॉयरलेस सेट पर जगह कुछ और बताते हैं और रहते कहीं और जिससे पुलिसिंग व अपराध रोकने में काफी परेशानियों का सामना करना पड़ता है। लिहाजा एडीजी जोन इन सब बिन्दुओं को देखते हुए कई तरह के योजनाओं पर काम करा रहे हैं। गोरखपुृर में वॉयरलेस लोकेशन के साथ रात 12 बजे से पांच बजे तक रात्रि गश्त चलती है। अलग-अलग अधिकारियों व थानेदारों का अलग अलग दिन शेडयूल भी बना है ताकि वह पुलिसकर्मियों की लोकेशन चेक करें साथ ही व्हाटसएप लाइव लोकेशन भेेजने की भी व्यवस्था कराई गई है। अब इसे एप के जरिए जोडऩे का भी प्लान तैयार कराया जा रहा है। पुलिसकर्मी गश्त के बाद एप के जरिए ही अपनी पूरी डिटेल संबंधित अधिकारी हो दे देगा साथ ही थानेदारों को चौबीस घंटे में एक निश्चित समय का विश्रााम देने का भी प्रयास किया जा रहा है। जिससे उसे आराम मिल सके वह पूरे मन से ड्यूटी करे और चिड़चिड़ा न हो। ऐसी व्यवस्था की जाएगी की जब थानेदार के आराम का समय हो तो कोई दूसरा पुलिसअधिकारी गश्त पर रहे और निगरानी करे।

31610cookie-checkगोरखपुर((सीएनएफ)/ गोरखपुर जोन के पुलिसकर्मियों के मोबाइल फोन में इंस्टॉल होगा मैप माई वर्क एप

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!
For Query Call Now