नई दिल्ली: भारत सरकार (Indian Government) ने कहा है कि चीनी बंदरगाह पर कार्गो पोत में फंसे (stranded) 16 भारतीय नाविकों (16 Indian Sailors) के क्रू को बदलने की मंजूरी चीनी सरकार से मिल गई है। भारत सरकार ने कहा है कि वो कार्गो पोत (Cargo Vessel) में फंसे 16 भारतीय नाविकों के क्रू को बदलने की मंजूरी के लिए चीनी सरकार से लगातार बात कर रही थी जिसके बाद अब चीन की तरफ से क्रू बदलने की इजाजत मिल गई है।
भारत सरकार के बयान के मुताबिक चीनी बंदरगाह काओफिडीयन पर पिछले साल सितंबर महीने से ही कार्गो पोत लंगर डाले खड़ा है। इस मालवाहक जहाज पर 16 भारतीय नाविक फंसे हुए थे। जिन्हें बदलने की मंजूरी चीन नहीं दे रहा था। जिसके लिए भारत सरकार लगातार चीन से संपर्क में थी। भारतीय विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अनुराग श्रीवास्तव ने अपने बयान में कहा है कि चीनी सरकार से मंजूरी मिलने के बाद उन्हें उम्मीद है कि जल्द ही नाविकों के क्रू को बदलने की प्रक्रिया पूरी कर ली जाएगी। उन्होंने कहा कि ‘बीजिंग स्थित भारतीय दूतावास के अधिकारी चीनी सरकार से लगातार संपर्क में थी। अब मंजूरी मिलने के बाद चीन अधिकारियों ने चीन सरकार के फैसले के बारे में तांगशांन में स्थित अपने विदेश कार्यालय और बंदरगाह के अधिकारियों को अवगत करा दिया गया है। अब उम्मीद है कि जल्द से जल्द क्रू बदलने की प्रक्रिया पूरी कर ली जाएगी’
चीनी अधिकारियों ने कोरोना वायरस का हवाला देते हुए क्रू मेंबर्स के बदलने की इजाजत अभी तक नहीं दी थी। जिसके बाद पिछले कई महीनों से 16 सदस्यीय भारतीय नाविक दल कार्गो शिप में फंसा हुआ था। इन नाविकों को जहाज से भी नीचे उतरने की इजाजत नहीं थी। 16 भारतीय नाविकों वाला जहाज काओफिडियन जहज पिछले साल 20 सितंबर से चीनी बंदरगाह पर लंगर डाले खड़ा है। इन नाविकों को जल्द से जल्द बदलने के लिए भारतीय विदेश मंत्रालय लगातार चीन से बात कर रहा था और मानवीय आधार पर नाविकों के 16 सदस्यीय क्रू को जल्द से जल्द बदलने देने की मांग कर रहा था।

9000cookie-checkचीनी बंदरगाह पर फंसे 16 भारतीय नाविक जल्द लौटेंगे स्वदेश, चीनी सरकार से क्रू बदलने को मिली मंजूरी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!
For Query Call Now